ठाणे । महाराष्ट्र में किशोर न्याय बोर्ड ने एक नाबालिग पर रिश्ते की बहन से बलात्कार और उसकी हत्या करने के मामले में 10 हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। इसके साथ ही उसे सामुदायिक सेवा करने का आदेश दिया है। बता दें ‎कि किशोर न्याय बोर्ड प्रमुख मजिस्ट्रेट एच. वाई. कावले ने 13 वर्षीय नाबालिग को भादंस की धारा 302, 376 , 364 और पोक्सो के तहत गुरुवार को दोषी ठहराया है। पुलिस ने बताया कि बच्ची पिछले साल 28 अक्टूबर से भिवंडी के सरवली गांव स्थित अपने घर से लापता थी। घरवालों ने जब उसे ढूंढना शुरू किया तो अगले दिन उसका शव एक पानी की पाइपलाइन के पास मिला। उन्होंने बताया कि बच्ची के अभिभावकों की शिकायत के आधार पर उसके रिश्ते के भाई को हिरासत में लिया गया और संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। पुलिस उपायुक्त राजकुमार शिंदे ने बताया कि पुलिस ने 50 दिन के भीतर किशोर अदालत में आरोपपत्र दायर कर दिया था। मजिस्ट्रेट ने अपने आदेश में कहा कि ऐसा पाया गया कि आरोपी ने जघन्य अपराध किया है इसलिए महज जुर्माना लगाकर उसे छोड़ा नहीं जा सकता। उन्होंने किशोर को समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी और कर्तव्य समझने के लिए सामुदायिक सेवा करने का भी आदेश ‎दिया है।