नई दिल्ली । दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा की हार के बाद समीक्षा बैठकों का दौर जारी है। दिल्ली के तीनों नगर निगमों के पार्षदों के साथ हार की समीक्षा की गई। बैठक में पार्षदों ने केंद्र सरकार के बजट से लेकर दिल्ली में टिकट वितरण तक को पार्टी की हार के लिए जिम्मेदार ठहराया है। भाजपा की ओर से भूपेंद्र यादव, केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय, अनिल जैन और प्रदेश संगठन मंत्री सिद्धार्थन ने इन बैठकों का नेतृत्व किया। बैठकों में निगम पार्षदों ने अपनी शिकायतें रखीं। पूर्वी और उत्तरी दिल्ली नगर निगमों की बैठकों में पार्षदों ने कहा कि दिल्ली चुनाव के दौरान केंद्र सरकार का बजट आया, जिसमें दिल्ली को लेकर कोई खास बड़ी घोषणा नहीं की गई। साथ ही सरकारी कर्मचारियों को भी बजट से निराशा हाथ लगी है। पार्षदों का कहना था कि बजट में अगर दिल्ली को लेकर कुछ बड़ा किया जाता तो दिल्ली की जनता को भाजपा के लिए वोट देने के लिए प्रेरित किया जा सकता था। दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के कई पार्षदों ने विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण को लेकर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि कई सीटों पर ऐसे उम्मीदवारों को मैदान में उतारा गया, जो दो-दो बार चुनाव हार चुके हैं। पार्षदों का कहना था कि अगर पार्टी कुछ नए चेहरे मैदान में उतारती तो जरूर दिल्ली के नतीजे अलग हो सकते थे।
- निगम के नेताओं को फटकार
पार्टी पदाधिकारियों की माने, बैठकों का नेतृत्व करने वाले नेताओं ने पार्षदों और निगम की कार्यप्रणाली को लेकर जमकर फटकार लगाई है। नेताओं का मानना था कि अगर निगम पार्षदों ने बेहतर कार्य किया होता तो दिल्ली की जनता के बीच विकास के मुद्दों पर पार्टी चुनाव लड़ती।