साउथैम्टन । महान बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर ने अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप क्रिकेट मुकाबले में भारतीय टीम के मध्य क्रम की धीमी बल्लेबाजी पर नाराजगी जताई है। सचिन ने कहा कि इस मैच में विशेषकर केदार जाधव और महेन्द्र सिंह धोनी के बीच जो साझेदारी हुई, वह काफी धीमी रही। धोनी ने इस मैच में 52 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 28 रन बनाए। केदार जाधव ने 68 गेंदों पर 3 चौकों और 1 छक्के की मदद से 52 रन की पारी खेली।
सचिन ने कहा, 'मुझे थोड़ी निराशा हुई, यह कुछ और बेहतर हो सकता था। मैं केदार और धोनी के बीच हुई साझेदारी से भी निराश ही हूं, जो साझेदारी दोनों के बीच हुई, वह काफी धीमी रही। हमने 34 ओवर स्पिन गेंदबाजी का सामना किया लेकिन सिर्फ 119 रन ही बना सके।' जाधव और धोनी ने 5वें विकेट के लिए 84 गेंदों पर 57 रन जोड़े। उन्होंने कहा, 'विराट कोहली 38वें ओवर में आउट हुए, इसके बाद 45वें ओवर तक ज्यादा रन नहीं बने। यह सही है कि मध्यक्रम के बल्लेबाजों को इससे पहले टूर्नामेंट में ज्यादा मौका नहीं मिला, इससे उन पर दबाव भी था पर इच्छाशक्ति मध्यक्रम के बल्लेबाजों में और बेहतर हो सकती थी।' सचिन ने माना कि जाधव पर दबाव था, इससे पहले उन्हें पाकिस्तान के खिलाफ केवल 8 गेंदों का सामना करने का अवसर मिला था। ऐसे में उन्हें एक साथी की जरूरत थी, पर वह मिल नहीं सका। केदार और धोनी, दोनों ही उस औसत के अनुसार नहीं खेल सके, जिसकी एकदिवसीय क्रिकेट में जरूरत होती है।'